Breaking News

ईको सेंसिटिव जोन के प्रावधानों के अनुसार बनायी जाएगी विकास कार्य योजना कलेक्टर रवींद्र चौधरी ने अधिकारियों को दिए निर्देश

ईको सेंसिटिव जोन के प्रावधानों के अनुसार
बनायी जाएगी विकास कार्य योजना
कलेक्टर रवींद्र चौधरी ने अधिकारियों को दिए निर्देश
सीधी 20 नवम्बर 2020
संजय टाइगर रिजर्व (संजय राष्ट्रीय उद्यान, संजय दूबरी अभ्यारण्य) की
सीमा से 2 किमी तक तथा बगदरा एवं सोन घड़ियाल अभ्यारण्य सीमा से 1 किमी
के क्षेत्र को भारत सरकार पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय, नई दिल्ली
द्वारा पारस्थितिक संवेदी जोन के रूप में अधिसूचित किया गया है। पारस्थितिक
संवेदी जोन की आंचलिक महायोजना (जोनल मास्ट प्लान) तैयार करने
हेतु म.प्र. टूरिज्म बोर्ड द्वारा मेसर्स आई.पी.ई. ग्लोबल लिमिटेड
को कंसल्टेंट नियुक्त किया गया है, जिनके द्वारा जोनल मास्टर प्लान तैयार
किया जा रहा है। उक्त जोनल मास्टर प्लान तैयार करने में सभी विभागों
की सक्रिय सहभागिता के लिए कलेक्टर रवींद्र कुमार चौधरी की अध्यक्षता में
बैठक का आयोजन किया गया।
कलेक्टर श्री चौधरी ने कहा कि जिले के ईको सेंसिटिव जोन
में चिन्हित किये गये क्षेत्रों में निर्धारित प्रावधानों के अनुसार ही
विकास एवं निर्माण की कार्य योजना तैयार करें। उक्त क्षेत्रों में
पर्यावरण संरक्षण, जैव विविधता तथा वन्य प्राणी क्षेत्र में न्यूनतम हस्तक्षेप
को ध्यान में रखते हुए विकास की कार्य योजना तैयार की जाए। कलेक्टर श्री
चौधरी ने सभी संबंधित विभागों के अधिकारियों को उक्त जोनल
मास्टर प्लान को अध्ययन कर उसमें आवश्यक सुझावों को साझा करने के
निर्देश दिए हैं जिससे पर्यावरणीय संतुलन और विकास के मध्य समन्वय स्थापित
किया जा सके।
कलेक्टर श्री चौधरी द्वारा उक्त क्षेत्रों में किए जा रहे विकास
कार्यों तथा प्रस्तावित कार्यों की जानकारी साझा करने के निर्देश दिए
हैं। उन्होंने कहा कि उक्त क्षेत्रों को विकसित करने के दौरान
सुप्रिम कोर्ट की गाइडलाइन का पालन करते हुए विकास कार्य किये जाय। इस
क्षेत्र में आने वाले विभागों द्वारा किये जाने वाले निर्माण एवं विकास
कार्य की जानकारी दी जाय ताकि वे सही ढंग से क्रियान्वयन कर सके।
बैठक में ईको सेंसिटिव जोन का मास्टर प्लान तैयार करने
के लिए निर्धारित एजेंसी आईपीई ग्लोवल के प्रतिनिधियों द्वारा बताया गया
कि ईको सेंसिटिव जोन बनाने का मुख्य उद्देश्य नेशनल पार्क तथा
अभ्यारण्यों में जनसंख्या के दबाव को कम करना एवं आमजन को पर्यावरण
अनुकूल आजीविका के साधन उपलब्ध कराना है। ईको सेंसिटिव जोन
में जैविक खेती, वन क्षेत्र में वन्य जीवन के संरक्षण एवं पर्यटन
संभावनाओं की कार्य योजना तैयार की गयी है।
बैठक में वनमंडलाधिकारी एम. पी. सिंह सहित राजस्व, वन तथा
निर्माण एवं विकास कार्यों से संबंधित विभागीय अधिकारी उपस्थित
रहे।

Check Also

निःशुल्क कोविड टीका लगाने के लिए 1 मार्च से शुरू अभियान में अधिक से अधिक वृद्धजन टीकाकरण का लाभ लें : सी एम एच ओ डॉ. मिश्रा

🔊 Listen to this Buero Report निःशुल्क कोविड टीका लगाने के लिए 1 मार्च से …

कृपया एक बार शेयर जरूर करें